वर्ष 2, अंक 3, जून 2013

संपादकीय

नजरिया

दिल्ली विश्वविद्यालय में नवउदारवादी दंश -   रवि कुमार

चार-साला स्नातक कार्यक्रम पर इतिहास विभाग के शिक्षक-शिक्षिकाओं का खुला पत्र

समसामयिकी

दिल्ली विश्वविद्यालय में चार-साला स्नातक कार्यक्रम के खिलाफ संघर्ष का तिथिक्रम

यह शोर बेवजह नहीं

निफ़्ट्स कैंपसों में भी फीस वृद्धि के खिलाफ प्रतिरोध - मोहित पांडेय

ललित कला संकाय, बड़ौदा पर भी नवउदारवादी हमला - कनक शशि

दुनिया की खिड़की

नवउदारवाद के चंगुल में खस्ताहाल अमरीकी विश्वविद्यालय -  लोकेश मालती प्रकाश

संगठन की रपटें

आंध्र प्रदेश सेव एजुकेशन कमेटी  की रपट

शिक्षा अधिकार मंच, भोपाल की रपट

प्रोग्रेसिव स्टुडेन्ट्स एसोसिएशन की रपट

दिल्ली विश्वविद्यालय में मई दिवस : मजदूर अधिकारों और  शिक्षा के आंदोलन की एकजुटता की ओर

कर्नाटक की शिक्षा में नवउदारवादी कदम और उसका प्रतिरोध

मुंबई शिक्षण कंपनीकरण विरोधी अभियान

करारा जवाब

दिल्ली विश्वविद्यालय का चार-साला स्नातक कार्यक्रम :  कुलपति के दावे और जनता के आइने में हकीकत ! - अनिल सदगोपाल

स्वायत्ता का कुतर्क

एफवाईयूपी : सस्ते श्रम और कॉरपोरेट लूट का नजरिया

दस्तावेज

चेन्नई घोषणापत्र

इतिहास के पन्नों से

महात्मा जोतिराव फुले और उच्च शिक्षा  -  अनिल सदगोपाल व मोहित पांडेय

श्रद्धांजली

असगर अली इंजीनियर  - उपासना बेहार

पिछला पन्ना

पूरा अंक यहां से डाउनलोड करें